जेनेटिक कोड (Genetic Code) | आनुवंशिक कोड (Genetic Code) की विशेषताएं | Genetic code in hindi

 जेनेटिक कोड (Genetic Code) | आनुवंशिक कोड (Genetic Code) की विशेषताएं | Genetic code  in hindi

जेनेटिक कोड के लक्षण,अनुवांशिक कोड को समझाइए,जेनेटिक कोड क्या है यह किस प्रकार कार्य करता है आनुवंशिक कोड के लक्षणों की व्याख्या कीजिए

Genetic code  in hindi

डीएनए अणुओं में स्थित नाइट्रोजिनस क्षारकों वह अनुक्रम जिसमें प्रोटीन अणुओं के संश्लेषण के लिए संदेश निहित रहते हैं उसे आनुवंशिक कूट अथवा जेनेटिक कोड कहते हैं।

आरएनए अणुओं में तीन नाइट्रोजिनस क्षारकों से बनी एक भाषा जो किसी विशिष्ट अमीनो एसिड को कोड करती है, उसे आनुवंशिक कूट अथवा जेनेटिक कोड कहते हैं।

वैज्ञानिकों ने डीएनए तथा आरएनए की संरचना तथा कार्यों को जानने के बाद आनुवंशिक संकेत पद्धति अथवा जेनेटिक कोड की खोज शुरू की।

नोबेल पुरस्कार विजेता मैथाई, ओकोवा, हॉली, खुराना तथा निरेनबर्ग नामक वैज्ञानिकों ने DNA, RNA और प्रोटीन्स के बीच सम्बन्ध का पता लगाया। उन्होंने प्रयोगशाला में RNA का संश्लेषण किया। इससे उन्होंने RNA में नाइट्रोजिनस क्षारकों के क्रम तथा पॉलिपेप्टाइड श्रृंखला में एमिनो अम्लों के क्रम में सम्बन्ध स्थापित किया और जेनेटिक कोड का पता लगाया।

DNA या RNA के चार प्रकार के नाइट्रोजिनस क्षारों (ATGC) के तीन-तीन के समूहों का अनुक्रम पॉलिपेप्टाइड श्रृंखला में एक-एक एमिनो अम्ल के क्रम को निर्धारित करता है।

नाइट्रोजिनस क्षारों (ATGC) के तीन-तीन के समूह (ATC, AAA, GCC, GGG, TAT, CGC आदि)  इस प्रकार आनुवंशिक संकेत पद्धति अथवा जेनेटिक कोडमें त्रिगुणी संकेत शब्द होते हैं

तीन नाइट्रोजिनस क्षारकों के एक अनुक्रम को त्रिक कोडॉन (triplet codon) अथवा कोडॉन (codon) तथा इस त्रिक कोडॉन संकेत पद्धति को triplet code कहते हैं।

अत: आनुवंशिक कोड या जेनेटिक कोड DNA अणुओं में स्थित नाइट्रोजिनस क्षारकों का वह अनुक्रम है जिसमें प्रोटीन अणुओं के संश्लेषण के लिये सन्देश निहित रहते हैं। तीन न्यूक्लिओटाइड्स के उस ग्रुप को जिसमें किसी एक एमिनो अम्ल के लिये कोड या सन्देश होता है, कोडॉन (codon) कहते हैं

आनुवंशिक कोड (Genetic Code) की विशेषताएं

(1) आनुवंशिक कूट त्रिक न्यूक्लिओटाइड्स का बना होता है। जीन 3 न्यूक्लिओटाइड्स का समूह एक ऐमीनो अम्ल के लिए संकेत है। 

(2) आनुवंशिक अतियापन नहीं है। RNA में प्रत्येक न्यूक्लिओटाइड केवल एक codon का ही भाग है।

(3) आनुवंशिक कूट कामाविहीन होता है।

(4) आनुवंशिक कूट विकृत है। केवल दो ऐमीनो अम्लों को छोड़कर शेष सभी ऐमीनो अम्लों के लिए एक-से-अधिक कोड होते हैं। 

5.आनुवंशिक कूट क्रमबद्ध है। किसी ऐमीनो अम्ल के लिए यदि एक-से-अधिक कोडोन्स है, तो उस ऐमीनो अम्ल से मिलती-जुलती रासायनिक प्रकृति के अन्य ऐमीनो अम्ल के कोडोन्स भी प्रायः एक न्यूक्लिओटाइट में ही भिन्न होते हैं।

(6) आनुवंशिक कूट में प्रारंभ या समापन कोड हैं

Search Query :- dna code,the genetic code,genetic code is,universal genetic code,triplet code,triplet codon,the genetic code is,degenerate genetic code,degenerate code,dna codon,genetic code example,genes code for,genetic code slideshare,genetic codon,rna code

टिप्पणियाँ