Type Here to Get Search Results !

कोशिका सिद्धान्त (Cell Theory) का इतिहास, विशेषताएं, अपवाद और महत्व की सम्पूर्ण जानकारी

 कोशिका सिद्धान्त (Cell Theory) का इतिहास, विशेषताएं, अपवाद और महत्व की सम्पूर्ण जानकारी 

Complete information on the history, characteristics, exceptions and importance of cell theory


मैल्थिआस श्लीडन ने 1838 में पौधों की कोशिकाओं के अध्ययन के आधार पर तथा जर्मनी के प्राणिविज्ञानी थियोडर श्वान ने 1839 में प्राणि कोशिकाओं के आधार पर कोशिका सिद्धान्त का प्रतिपादनकिया।

कोशिका सिद्धान्त की विशेषताएं (Features of cell theory)

1. कोशिकाएँ जीवों की संरचनात्मक इकाई हैं।

2. प्रत्येक कोशिका में जीवन सम्बन्धी सभी क्रियाएँ होती हैं

4. कोशिकाएँ उपापचय क्रियाओं की इकाई है।

5. कोशिकाएँ आनवंशिक एकक है।

6. नई कोशिकाएं केवल पूर्ववर्ती कोशिकाओं के विभाजन से बनती हैं।

कोशिका सिद्धान्त का महत्व (Importance of cell theory)

इनमें पोषण, श्वसन व उत्सर्जन जैसी क्रियाएँ भी नहीं होतीं। वाइरस अविकल्पी परजीवी (obligatory parasites) हैं। ये पोषक कोशिका के बाहर जनन नहीं कर सकते।

वाइरस कोशिका सिद्धान्त का पूर्ण अपवाद है। वाइरस अपूर्ण कोशिकाएँ है। प्रत्येक वाइरस कोशिका में न्यूक्लीक अम्ल (DNA या RNA) का केन्द्रीय कोड (central core) होता है और इसके बाहर प्रोटीन का खोल होला है जिसे कैप्सिड (capsid) कहते हैं। वाइरस में कोई भी कोशिकांग नहीं होते और न ही उनमें अपने एन्जाइम होते हैं।

कोशिका सिद्धान्त का इतिहास (History of cell theory)

कोशिका सिद्धान्त का आधुनिक रूप बैक्टीरिया से लेकर मनुष्य तक सभी जीवित प्राणियों के बीच संरचनात्मक तथा क्रियात्मक समानता को प्रदर्शित करता है।

1. किसी भी प्राणी में तथा शरीर के किसी भी भाग में पायी जाने वाली कोशिकाओं की मूलभूत संरचना समान है। सभी में कोशिका कला का बाह्य आवरण होता है। सभी में कोशिकाद्रव्य तथा इसके अन्दर केन्द्रक होता है। यह संरचनात्मक एकता को प्रदर्शित करता है।

मैथियास श्लाइडेन नामक वैज्ञानिक ने 1838 ई. में बड़ी संख्या में पादप-ऊतकों का निरीक्षण किया और यह पाया कि वे सभी एक अथवा अनेक प्रकार की कोशिकाओं से बने हुए हैं। उसी समय 1839 ई. में थियोडोर श्वान ने विविध प्रकार की जंतु-कोशिकाओं का निरीक्षण किया।

इन वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन द्वारा कोशिका सिद्धान्त का प्रतिपादन किया, जिसके अनुसार, "सभी जीवों के शरीर कोशिकाओं से बने होते है और सभी सजीवों की क्रियाएं उनकी कोशिकाओं की क्रियाओं का परिणाम हैं।'

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.