उष्ट्रासन और तड़ासन योग कैसे करे ?इस योग के लाभ और पद्धति - माहिती

उष्ट्रासन और तड़ासन योग कैसे करे ?इस योग के लाभ और पद्धति - माहिती

उष्ट्रासन और तड़ासन योग कैसे करे ?इस योग के लाभ और पद्धति - माहिती
मंगलवार, 11 मई 2021

 उष्ट्रासन और तड़ासन योग कैसे करे ?इस योग के लाभ और पद्धति - माहिती 

How to do Uttrasana and Tadasana Yoga? Benefits and method of this yoga

नमस्कार मेरे प्यारे छात्र भाइयों और बहनों, आज के नवीनतम लेख पोस्ट में, मैंने योग के बारे में जानकारी दी है। हमारे पसंदीदा पोस्ट में, मैंने मई ताड़ासन और उष्ट्रासन के बारे में जानकारी दी है।

यह पोस्ट ताड़ासन योग की विधि और लाभों के बारे में जानकारी प्रदान करती है। यह लेख उष्ट्रासन योग की विधि और लाभों के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

पोस्ट के अंदर आपको योग करने के तरीके और इन दो योगों को करने के क्या लाभ हैं, इस पर सभी विस्तृत जानकारी मिलेगी।

भारत में प्राचीन काल से ही योग के अभ्यास को जाना जाता है। हमारे ऋषियों ने योग के आठ अंग दिए हैं। योग और प्राणायाम का अभ्यास यम और नियमा का पालन करके मन को प्रसन्न करता है क्योंकि यह शरीर की नसों को शुद्ध करता है, स्वास्थ्य को बढ़ाता है और मन को पोषण देता है।

मानसिक स्वास्थ्य तेज, सोच, स्मृति, संवेदनाओं के नियंत्रण जैसी चीजों में सुधार का एक निश्चित कारण है। योग एक अग्रणी जीवनशैली के प्रति अग्रणी मानव में प्रभावी है। आसन शरीर की एक स्थिति है जिसमें शारीरिक स्थिरता और मानसिक खुशी का अनुभव किया जाता है। योग सूत्र में, आसन आनंदित शरीर की स्थिति है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया है, जो योग के महत्व को पहचानता है।

आसन एक व्यायाम नहीं है। मानसिक क्रिया आसन में शरीर की तरह ही महत्वपूर्ण है। आसन को प्रकृति के विभिन्न अवलोकनों के अनुसार प्राकृतिक तत्वों के नाम और गुणों के आधार पर जाना जाता है।

उष्ट्रासन और तड़ासन योग के लाभ और पद्धति 

1. तड़ासन:

खड़े होते समय यह करना है। इस आसन को 'ताड़ासन' कहा जाता है क्योंकि शरीर की स्थिति एक ताड़ के पेड़ की तरह सीधी और ऊंची होती है।

 तरीका:

दोनों पैरों के पंजों को सामान्य रूप से खुला रखें, दोनों हाथ शरीर की तरफ। प्रतीक्षा करो।

दोनों हाथों को सीधा रखें और धीरे-धीरे उन्हें ऊपर उठाएं। जब दोनों हाथ कंधों पर सीधे हों, तो आकाश की ओर कुछ उपनाम, हथेलियां बनाएं।

फिर भी अपने हाथों को ऊपर उठाएं। दोनों हाथों से आकाश को प्रणाम करें। दोनों पैरों को ऊँचा करें। पैर की उंगलियों पर शरीर को संतुलित रखें। शरीर को ऊपर की ओर खींचें। यह पूरी स्थिति में किया जाता है।

लौटने के लिए दोनों पैरों की एड़ी को नीचे लाएँ। साथ ही दोनों हाथों को नीचे लाएं।

लाभ:

• शरीर की ऊंचाई बढ़ाता है।

• परिसंचरण ठीक से किया जाता है।

• शरीर की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। श्वसन क्षमता बढ़ाता है।

2. उष्ट्रासन

ऊँट का अर्थ है ऊँट। इस आसन को 'उष्टासन' कहा जाता है क्योंकि शरीर के सभी अंग मुड़े हुए होते हैं।

 तरीका:

वज्रासन की तरह अपने घुटनों पर बैठें। दोनों घुटनों के बीच और दोनों एडीओ के बीच लगभग 15 सेमी की दूरी रखें। दाएं पैर की एड़ी को दाएं हाथ से और बाएं पैर की एड़ी को फेफड़ों से सांस लेते हुए पकड़ें। दोनों बाहों को सीधा करें और गर्दन के पीछे ले जाएँ। सांस सामान्य रखें। छह से आठ सेकंड के लिए इस स्थिति को पकड़ो।

लाभ:

• श्वसन प्रणाली कुशल हो जाती है।

• रक्त की अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं।

• तेज आंखों की रोशनी बढ़ाता है।

 • करोड़ लचीले हो गए

उष्ट्रासन और तड़ासन योग कैसे करे ?इस योग के लाभ और पद्धति - माहिती
4/ 5
Oleh