साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES) किसे कहते है ? परिभाषा और अर्थ

 साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES) किसे कहते है ? परिभाषा और अर्थ 

What is PSYCHOTROPIC MEDICINES? Definition and meaning

हेल्लो दोस्तो आजका टॉपिक बायोलॉजी सांइस पर है। आज हम इस आर्टिकल में दोस्तो साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES) के बारे में हम संपूर्ण शुद्ध हिंदी भाषा में आपको जानकारी देने वाला हूं तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ ले। और इस पोस्ट के अंदर आपको साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES) किसे कहते है ? और साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES) के कितने भगोवमे बाटा गया है ? 

साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES)

ऐसी औषधि जिन पर व्यक्ति निर्भर हो जाता है, वे व्यसन की श्रेणी में आती हैं। इन औषधियों को साइकोट्रॉपिक औषधियाँ कहते हैं। ये दवाइयाँ मस्तिष्क पर प्रभाव डालती हैं तथा व्यवहार में परिवर्तन लाती हैं। मस्तिष्क पर प्रभाव डालने के आधार पर ये कई प्रकार की होती हैं।

साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES)

1. शामक व निद्राकारक (Sedative and Tranquillisers)

मस्तिष्क की क्रियाशीलता को कम करती हैं, तनाव व बैचेनी को कम करके निद्रा लाती हैं, जैसे- बेलियन व बार्बीटयूरेट्स।

और यह भी पढ़े :- प्लाज्मा निदान और प्लाज्मा तरंगों के बारे में शुद्ध हिंदी भाषा में जानकारी

2. उत्तेजक (Stimulants)

उत्तेजक (Stimulants) दवाएँ तन्त्रिका तन्त्र को उत्तेजित करती हैं। जैसे कैफीन(चाय और कॉफी, कोको तथा कोला पेय पदार्थों के रूप में),कोकीन तेज उत्तेजक हैं।

और यह भी पढ़े :- Covalent Bond के बारे में संपूर्ण हिंदी में जानकारी

3. विभ्रमक (Hallucinogens)

विचार एवं भावनाओं में बदलाव लाती हैं। इनके प्रभाव से व्यक्ति गलत धारणाएँ बना लेते हैं जैसे कि वे ध्वनि को देख सकते हैं। LSD, मेस्कालाइन, सीलोसाइविन, चरस, गांजा, हशीश आदि।

और यह भी पढ़े:- कृमि त्वचा और मेंढक की त्वचा में क्या क्या भेद है? 

4. ओपिएट (Opiates)

 ओपिएट यह औषधियाँ तनाव और चिन्ताको कम करते हैं। ये श्वसन दर और रक्तचाप को भी कम करते हैं। इनसे निद्रा व सुस्ती आती है। व्यसन करते लोग स्वयं को अच्छा महसूस करते हैं अफीन के व्यसन करते लोगो के शरीर का भार कम, व्यक्ति बन्ध्य हो जाता है

और यह भी पढ़े:- 12th पास के बाद प्रोफ़ेशनल क्रिकेटर कैसे बने? कैरियर कैसे बनाए इस लाइन में

साइकोट्रॉपिक औषधियाँ (PSYCHOTROPIC MEDICINES)

हेरोइन के व्यसनी शारीरिक रूप से दवा पर निर्भर करते हैं। इसके अभाव में रोगी को उल्टी आना, डायरिया, कँपकँपी, पसीना आना तथा पेट व पेशियों में अकड़न आदि विकार उत्पन्न हो जाते हैं। सही उपचार करने पर ये लक्षण कुछ दिन बाद कम हो जाते हैं और शरीर धीरे-धीरे सामान्य हो जाता है।

0 Komentar

Post a Comment

અમારા વોટ્સએપ ગ્રુપમાં જોડાઓ ક્લિક કરો