लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी

लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी

लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी
गुरुवार, 28 जनवरी 2021

 लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी

लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी

हेल्लो स्टूडेंट्स आज हम आपके लिए एक बहेतरिन आर्टिकल बायोलॉजी के रिलेटेड लेकर आया हूं तो आप उसे ध्यान से पढ़िए गा। इस आर्टिकल में आपको लवक के बारे में जानकारी मिलेगी। लवक क्या है ?लवक  है में पाई जाती है यह सब आंसर का आपको इस आर्टिकल में उतर मिलेगा। इस आर्टिकल  में आपको लवक के कितने प्रकार है ? और अवर्णी लवक के कितने प्रकार है और लवक की खोज किसने की थी यह सबकुछ जानकारी आपको हमारे इस ब्लॉग पर मिलेगी।

पौधों की पत्तियों और कोमलतनों का रंग हरा तथा फल औरफूल लाल, नीले, पीले, गुलाबीआदि रंग के क्यों होते हैं

लवक की खोज "हेकल" नामक वैज्ञानिक ने सन 1865 ईस्वी में की थी लेकिन लवक शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम शिम्पर ने 1885 ईस्वी में किया था

हरित लवक

यह हरे रंग के लवक होते हैं इनमें पर्णहरिम नामक हरा वर्णक पाया जाता है यह मुख्य रूप से पेड़ पौधों के हरे भागों जैसे पत्तियों, कोमल तनों तथा अपरिपक्व फलों में पाए जाते हैं

अवर्णी लवक

अवर्णी लवक रंगहीन होते हैं अवर्णी लवक पौधों के उन भागों में पाया जाता है जहां प्रकाश नहीं पहुंचता है यह पौधों के विभिन्न भागों में खाद्य पदार्थ संचित करने का कार्य करते हैं इसीलिए इन्हें संचय लवक के नाम से भी जानते हैं

अवर्णी लवक 3 प्रकार के होते हैं

1- मंड लवक (एमायलोप्लास्ट)- जो भोजन को मंड (स्टाच) के रूप में संचित करता है

2-तेलद लवक (इलियोप्लास्ट)- जो भोजन को वसा के रूप में संचित करता है

3-प्रोटीन लवक (प्रोटीनोप्लास्ट)- जो भोजन को प्रोटीन के रूप में संचित करता है

वर्णी लवक

वर्णी लवक रंगीन होते हैं जो परिपक्व फलों तथापुष्पों को रंगीन बनाते हैं इनका प्रमुख कार्यपुष्पों में उपस्थित वर्णी लवक कीटों को परागणके लिए आकर्षित करते हैं

रंगीन बीज तथा फल

विभिन्न प्राणियों को अपनी ओर आकर्षित करते हैंजिससे प्रकीर्णन में सहायता मिलती है यह तीनों प्रकार के लवक एक रूप से दूसरे रूप में परिवर्तित हो जाते हैं जैसे हरा टमाटर और हरी मिर्च पकने परलाल हो जाते हैं

अर्थातहरित लवक वर्णी लवक में बदल जाता है जैसे हरा टमाटर और हरी मिर्च पकने पर हो जाते हैं अर्थातहरित लवक वर्णी लवक में बदल जाता हैआलू का जो भाग मिट्टी की सतह से बाहर होता हैवह हरा होता है क्योंकि आलू में उपस्थित अवर्णी लवक हरित लवक में बदल जाता है यह तीनों प्रकार के लवक एक रूप से दूसरे रूप मे परिवर्तित हो जाते है। 

और भी पढ़े 

ओजोन परत क्या है ? और ओजोन छिद्र क्या है?

यह पोस्ट पढ़ने के लिए :-यहां पर क्लिक करे

यह भी पढ़े 

दोस्तो यह आर्टिकल आपको पसंद आए तो अपने स्टूडेंट्स दोस्तो के साथ शेयर करना नाभूले और ऐसे ही बायोलॉजी साइंस के रिलेटेड आर्टिकल्स देखने के लिए हर रोज हमारी साइट पर विजिट जरूर करें। हमारी साइट पर विजिट करने के लिए आपका धन्यवाद्

लवक की खोज, कार्य, प्रकार और संरचना कि पूरी जानकारी
4/ 5
Oleh